विशेष

मां का सपना पूरा करने के लिए छोड़ दी इंजीनियरिंग, सफल IPS अफसर बनकर पूरे देश में पाई ख्याति

हर सफल इंसान के पीछे एक ऐसी प्रेरणा और उम्मीद जरूर होती है जिसे पूरी करने के लिए इंसान कुछ भी कर जाता है. फिर उसमें कितनी भी मेहनत और मुशक्कत लगे लगन से करने वाले इसकी परवाह नहीं करते और कुछ ऐसा ही किया कानपुर के रहने वाले माधव अवस्थी ने जो इन दिनों छत्तिसगढ़ के पुलिस महानिदेशक बनाए गए हैं. ये सपना उन्होंने नहीं बल्कि उनकी मां ने देखा था कि वो आईपीएस बने और इस ख्वाहिश को पूरा करने के लिए माधव अवस्थी ने इंजीनियरिंग छोड़कर सिविल की तैयारी में जुट गए. किस्मत से उन्हें पहली बार में ही सफलता मिली और आज वो अपने बेटे की शादी करने के लिए कानपुर फिर वापस आएंगे. मां का सपना पूरा करने के लिए छोड़ दी इंजीनियरिंग, चलिए बताते हैं आपको माधव अवस्थी की शुरुआती कहानी.

मां का सपना पूरा करने के लिए छोड़ दी इंजीनियरिंग

कानपुर के बीएनएसडी इंटर कॉलेज से 12वीं और वीएसएसडी कॉलेज से बीएससी की पढ़ाई करने के बाद शुगर संस्थान से इंजीनियरिंग की पढ़ाई की और गुजरात तके बारडोली में शुगर मिल में नौकरी करने लगे. करियर सेट था फिर भी उनकी मां को लगता था कि आईपीएस ऑफिसर बनना ज्यादा अच्छा है. इसके बाद वो माधव अवस्थी यानी अपने बेटे के पीछे पड़ गईं कि मेहनत करो और सफलता हासिल करो. अवस्थी जी ने ऐसा ही किया और पहली ही बार में आईपीएस निकाल लिया, 24 साल की उम्र में माधव अवस्थी आईपीएस बन गए थे. डीएम माधव अवस्थी अब तक सतना, रायपुर, इंदौर, छिंदवाड़ा और उज्जैन जैसे जिलों में अपना काम पूरी ईमानदारी से कर चुके हैं. फिर जब छत्तिसगढ़ राज्य बना और मीटिंग में तबादला की बात हुई जिन्हें छत्तिसगढ़ में तैनात रहना था तब अवस्थी जी ने हाथ उठा दिया.

डीएम अवस्थी के मुताबिक उनकी मां हमेशा कहती थीं जोखिम उठाओगे तो सफल जरूर होगे इसी बात को ध्यान में रखकर वो छत्तिसगढ़ राज्य में नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में कायाकल्प कराया और कई नक्सलियों को जेल भिजवाया. उसी दौरान डीएम अवस्थी ने छत्तिसगढ़ में डीजी नक्सल ऑपरेशन्स का पद संभालते हुए कई नक्सलियों की कमर तोड़ी. यहां पर कई थाने, चौकी और स्कूल भी खुलवाए.

कानपुर में है बेटे की शादी

डीएम अवस्थी के पिता डॉ. प्रकाश अवस्थी वीएसएसडी कॉलेज में हिंदी विभाग के अध्यक्ष रहे हैं, इसके बाद साल 1992 में रिटायर्ड हुए, वहीं उनकी मां पद्मा अवस्थी एक साधारण गृहणी रही हैं. डीएम माधव अवस्थी के दो छोटे भाई शेखर और हितेंद्र के अलावा दो छोटी बहनें दीप्ती और प्रीति हैं. दीप्ति के पति इन दिनों रायपुर में एसपी के पद पर कार्यरत हैं. 25 जनवरी को डीएम अवस्थी के बेटे की शादी है और वो लोग अपने पैतृक गांव महाराजपुर के माहौली में कुलदेवी की पूजा करने के लिए जा रहे हैं. इसी में डीजीपी माधव अवस्थी भी अपने परिवार के साथ कानपुर में होंगे. इनके दोनों बेटे विश्रुत और अच्युत इंजीनियर हैं और आजकल विदेश में जॉब करते हैं.

Show More

Related Articles

Back to top button
Close