विशेष

राम रहीम की चहेती हनीप्रीत की ‘खास डिमांड’, जेल में ही करना चाहती है ये काम

नई दिल्ली – बाबा राम रहीम की चहेती हनीप्रीत करीब एक साल से जेल में बंद है। शायद आपको याद होगा की हनीप्रीत को पुलिस ने राम रहीम के जेल जाने के करीब एक महीने बाद गिरफ्तार किया था। तब से लेकर अभी तक उसे लेकर हर रोज नई-नई बातें सामने आ रही हैं। हनीप्रीत जिस तरह से राम रहीम के साथ उनकी गुफा में हुक्म चलाती थी वैसे ही वह अब जेल में भी पुलिस वालों पर अपना हुक्म चला रही है। आपको बता दें कि हनीप्रीत को राम रहीम की गिरफ्तारी के  काफी समय के बाद पुलिस ने गिरफ्तार किया था। बाबा के जेल जाने के बाद हनीप्रीत ने पुलिस से राम रहीम से मिलाने की गुहार लगाई थी। कुल मिलाकर बात ये है कि हनीप्रीत जेल जाने के बाद से ही लगातार कई डिमांड कर चुकी है। और अब उसने एक और डिमांड कर दी है।

घरवालों से हर रोज करनी है बात

आपको बता दें कि अभी कुछ दिनों पहले ही हनीप्रीत ने अपनी जेल बदलने की मांग की थी। इसके बाद हनीप्रीत ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल करते हुए एक खास डिमांड की है। दरअसल, हनीप्रीत की ओर से दाखिल याचिका में कोर्ट से अपने परिजनों से पांच मिनट रोजाना बात करने की अनुमति मांगी गई है। हालांकि, अभी तक इस याचिका पर फैसला नहीं आया है। लेकिन, पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने हरियाणा सरकार को 11 दिसंबर तक जवाब देने के लिए कहा है। आपो बता दें कि हनीप्रीत इन दिनों सेंट्रल जेल में बंद है और उसने याचिका दायर कर रोजाना पांच मिनट घर पर बात करवाने की मांग की है। इसके लिए हनीप्रीत को मोबाइल फोन चाहिए, वो भी जेल में।

कैदियों के लिए प्रिजन इनमेट कॉलिंग सिस्टम शुरु

दरअसल, हनीप्रीत ने ये डिमांड यूँ ही नहीं की है। मामला ये है कि हरियाणा सरकार ने अपने राज्य की जेलों में कैदियों के लिए प्रिजन इनमेट कॉलिंग सिस्टम शुरू किया है। इस सिस्टम के तहत, जेल में बंद कैदी अपने हर रोज अपने परिजनों से पांच मिनट तक बात कर सकते हैं। अब इसी सिस्मट का हवाला देते हुए हनीप्रीत ने अपनी याचिका कोर्ट के सामने पेश की है। इससे पहले भी हनीप्रीत ने पंचकूला एडिशनल जज की अदालत में याचिका दाखिल की थी लेकिन कोर्ट ने उसे खारिज कर दिया था। लेकिन, अब हनीप्रीत ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की है। देखना दिलचस्प होगा कि पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट की जस्टिस दया चौधरी हनीप्रीत की इस याचिका पर क्या फैसला देती हैं।

राम रहीम के भगाने की साजिश रचने का आरोप

आपको बता दें कि हनीप्रीत गुरमीत राम रहीम को 25 अगस्त को बलात्कार का दोषी ठहराये जाने के बाद भगाने की साजिश रचने और हिंसा फैलाने के आरोप में जेल में बंद है। हनीप्रीत पर देशद्रोह, दंगा भड़काना, बाबा के पुलिस कस्टडी से भगाने की साजिश रचने के आरोप है, जिसकी वजह से उसे अभी तक जमानत भी नहीं मिल सकी है। गौरतलब है कि पंचकूला में सीबीआइ की अदालत ने गुरमीत राम रहीम को दो साध्वियों से बलात्कार का दोषी ठहराते हुए 20 साल जेल की सजा सुनाई है। उस वक्त बाबा की ओर से हनीप्रीत को जेल में साथ रहने की अपील की गई थी। इस अपील में कहा गया था कि हनीप्रीत फिजियोथेरेपिस्ट के साथ-साथ बाबा का मसाज करने का काम भी करती है।

Related Articles

Close