आखिर क्यों मनाया जाता है भैया दूज? जानिए इसके बारे में

जैसा कि आप सभी लोग जानते हैं कि 09 नवंबर 2018 को भैया दूज है यानी आज के दिन भैया दूज का त्यौहार मनाया जा रहा है भैया दूज कार्तिक शुक्ल द्वितीया पर या यम द्वितीया पर मनाई जाती है भैया दूज का त्यौहार भाई बहनों का त्यौहार माना जाता है इस दिन बहन अपने भाई के लिए पूजा करती है भाई के सिर पर तिलक लगाकर उसकी आरती और कलावा बांधती है यह त्यौहार भाई बहनों के अटूट रिश्ते और प्रेम को दर्शाता है परंतु कभी आप लोगों ने इस विषय पर गौर किया है कि आखिर भैया दूज का त्यौहार क्यों मनाया जाता है? आखिर इसके पीछे की वजह क्या है? शायद आप लोगों में से किसी ने भी इस बात पर ध्यान नहीं दिया होगा, तो चलिए आज हम आपको आखिर भैया दूज मनाने के पीछे क्या कारण है इसके बारे में जानकारी देने वाले हैं।

पौराणिक मान्यता अनुसार देवासुर संग्राम समाप्त होने के पश्चात भगवान विष्णु जी जब आराम करने के बाद आंखें मलते हुए उठे तो उनकी आंखों से 3 आंसू की बूंद गिर कर सूर्य पत्नी संज्ञा के आंचल में गिर पड़ी थी संज्ञा इसे भगवान का वरदान मानकर आंचल में समेट लेती है श्री भगवान विष्णु जी उन्हें वरदान देते हैं कि संज्ञा तुम तीन संतानों को जन्म दोगी संज्ञा की तीन संतान में से पहले बड़ा भाई मनु दूसरा और तीसरा रूप जुड़वा बच्चे यमराज और यमुना उत्पन्न हुए, सूर्य देव के वरदान से तीनों लोकों में सर्व गुण संपन्न बनकर वह पूजनीय बनी तथा द्वापर में यमुना को श्री कृष्ण जी की पत्नी बनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ था।

यमुना के अनुसार इस दिन जो भाई अपनी बहन के घर भोजन करते हैं तथा भाई बहन यमुना में स्नान करते हैं यम उनका कुछ नहीं बिगाड़ सकते हैं इस दिन बहनें भाइयों के हाथों का पूजन करती हैं भाई के हाथों में चावल का घोल और सिंदूर लगाकर कद्दू के फूल पान सुपारी मुद्रा आदि हाथों पर रखकर पानी हाथों पर छोड़ते हुए विशेष श्लोक कहती हैं बहने भाई के सर पर तिलक लगाकर उनकी आरती करके हथेली में कलावा बांधती हैं इस पूजन से भाई की रक्षा होती है अगर भाई को कोई भयंकर पशु काट ले तो यमराज के दूत भाई के प्राण नहीं लेते हैं इस दिन संध्या में यमराज के नाम से चौमुख दीपक जला कर घर के बाहर रखा जाता है इस दिन यमुना और चित्रगुप्त के पूजन के साथ साथ यमराज का विशेष पूजन किया जाता है भाई दूज और यम द्वितीय के विशेष पूजन उपाय से भाई बहन के सारे कष्ट दूर होते हैं भाई बहन को हर कार्य में सफलता प्राप्त होती है इसके साथ ही भाई-बहनों की सुख सुविधाओं में भी बढ़ोतरी होती है भाई बहनों के ऊपर आने वाली सभी समस्याएं दूर होती हैं।

अब आपको इस बात की जानकारी तो हो ही गई होगी कि आखिर भैया दूज क्यों मनाया जाता है दरअसल यह त्यौहार भाई और बहनों का त्यौहार होता है इस त्यौहार को मनाने के पीछे की वजह इस पौराणिक कथा के अनुसार पता चलता है यह त्यौहार बहन अपने भाई की सुरक्षा के लिए करती है तथा इस त्यौहार से भाई बहनों के बीच हमेशा प्रेम बना रहता है और इन दोनों के ऊपर कोई भी मुसीबत नहीं आती है।