दिवाली पर ऐसे करें लक्ष्मी गणेश जी की आराधना, जानिए पूजा की विधि और जरूरी बातें

जिस दिन का सभी लोगों का इंतजार था अब वह इंतजार समाप्त हो चुका है पूरे देश भर में दिवाली का त्यौहार 07 नवंबर 2018 यानी आज के दिन मनाया जा रहा है इस दिन से महालक्ष्मी पर्व की शुरुआत हो रही है दिवाली के दिन माता लक्ष्मी जी और भगवान श्री गणेश जी के अतिरिक्त कुबेर देवता की भी पूजा की जाती है ताकि इन सभी की कृपा हमेशा व्यक्ति के ऊपर बनी रहे यदि आप भी कार्तिक कृष्ण अमावस्या तिथि को प्रदोष काल में स्थिर लग्न में दीपावली की पूजा करते हैं तो घर में अन्न धन की वर्षा होती है इसके अलावा तंत्र विद्या से देवी की पूजा करने वाले लोगों को आधी रात के समय निशिथ काल में आराधना करनी चाहिए आज हम आपको इस लेख के माध्यम से आप अपने घर में माता लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा आराधना किस प्रकार कर सकते हैं दिवाली की पूजा साथ साथ जरूरी बातों के बारे में जानकारी देने वाले हैं।

दिवाली की पूजा के लिए आवश्यक वस्तुएं

Diwali ki puja

दिवाली की पूजा के दौरान आप माता लक्ष्मी गणेश जी की पूजा के लिए आरती की थाली, एक नारियल, लौंग, पान के पत्ते, पंचामृत, फल, आम का पल्लव, चौकी, हल्दी, दीपक, चंदन, श्रीखंड चंदन, कमलगट्टे, हवन कुंड, हवन सामग्री, फूल, 5 सुपारी, लाल वस्त्र, अक्षत, सिंदूर, रोली, कलावा, बताशे, मिठाइयां और लाल वस्तु जैसी जरूरी चीजों का इस्तेमाल करें।

तैयारियां किस प्रकार करें दिवाली की पूजा

Diwali ki puja

आप अपने घर में दीपावली की पूजा में सबसे पहले पूजा घर के अंदर धन की देवी माता लक्ष्मी और भगवान श्री गणेश जी की स्थापना कीजिए और मूर्तियों को पंचामृत और उसके पश्चात जल से अच्छी तरह स्नान करवा दीजिए भगवान गणेश जी का ध्यान करके उन्हें नए वस्त्र और पुष्प अर्पित कीजिए इसके पश्चात माता लक्ष्मी जी को नए वस्त्र और आभूषण और माला पहना दीजिये इसके पश्चात उन्हें टीका लगाएं और हाथ जोड़कर प्रार्थना कीजिए कि दोनों की कृपा आपके परिवार पर हमेशा बनी रहे इसके पश्चात दीपक और धूप जलाएं और माता लक्ष्मी जी के चरणों में बेल पत्थर उसके पत्ते और गुलाब के पुष्प अर्पित करें आरती आरंभ करने से पहले 21 या 11 चावल के दाने माता को अर्पित कीजिए इसके पश्चात परिक्रमा कीजिए और माता को भोग अवश्य लगाएं।

आखिर क्यों जरूरी है दिवाली की पूजा

Diwali ki puja

जैसा कि आप सभी लोग जानते हैं कि दीपावली का त्यौहार बड़ी ही धूमधाम के साथ मनाया जाता है इस दिन धन की देवी माता लक्ष्मी जी और गणेश जी की पूजा (दिवाली की पूजा) की जाती है गणेश जी की पूजा करने से इंसान की बुद्धि का विकास होता है और इसके साथ ही वह सही फैसले लेने में काबिल बनता है इसके अलावा धन की देवी माता लक्ष्मी जी का स्वभाव चंचल माना गया है यह कभी एक स्थान पर नहीं रुकती है इनके चंचल स्वभाव की वजह से हम इनकी पूजा करके इनको स्थिर रख सकते हैं दिवाली के दिन खासतौर पर माता लक्ष्मी जी की पूजा होती है सभी लोग यही चाहते हैं कि उनके घर परिवार पर हमेशा धन की देवी माता लक्ष्मी जी की कृपा दृष्टि बनी रहे और उनको कभी भी किसी प्रकार की धन से संबंधित परेशानियों का सामना ना करना पड़े हर कोई मनुष्य यही चाहता है कि माता लक्ष्मी जी की कृपा से उसके घर परिवार में सुख समृद्धि बनी रहे और घर में बरकत हो।

यह भी पढ़ें

कैसे करें दीपावली में गणेश-लक्ष्मी की पूजा, जानें सही विधि और शुभ मुहुर्त :  दीपावली पूजन विधि