श्राद्ध में अगर आपको मिलते हैं ऐसे संकेत, तो समझिए आपके पितरों आपसे हैं प्रसन्न

जैसा कि आप सभी लोग जानते हैं कि भारत में पितरों के प्रति श्रद्धा और नमन का पर्व 24 सितंबर से आरंभ हो चुका है इन दिनों में हमारे पितर पूरे 16 दिनों तक हमारे घर में वास करते हैं और ऐसे में हम उनका श्राद्ध कर्म सही दिन पर करके उनको प्रसन्न कर सकते हैं इसके अतिरिक्त कुत्ते और कौवे को भोजन अवश्य देना चाहिए श्राद्ध के दिनों में विशेष तिथि होती है, इसके अनुसार मृत्यु पाए व्यक्तियों के श्राद्ध को निश्चित तिथि पर की जानी चाहिए श्राद्ध के दिनों में व्यक्ति अपने पितरों की आत्मा की शांति के लिए बहुत से उपाय करते हैं परंतु कई बार ऐसा देखा गया है कि व्यक्ति तो अपनी तरफ से सभी उपाय करता है परंतु उसको इस बात की जानकारी नहीं चल पाती है कि उससे पितर प्रसन्न है या फिर नाराज है?

दरअसल, पितरों द्वारा ऐसे कुछ संकेत दिए जाते हैं जो इस बात की ओर इशारा करते हैं कि आपके पिता आपसे प्रसन्न है या फिर नाराज हैं? आज हम आपको इस लेख के माध्यम से उन खास संकेतों के विषय में जानकारी देने वाले हैं जिनके माध्यम से आप इस बात का पता लगा सकते हैं कि आपके पितर आपसे प्रसन्न है या फिर नहीं है?

आइए जानते हैं पितरों द्वारा मिलने वाले इन संकेतों के बारे में

  • अगर किसी व्यक्ति को श्राद्ध के दिनों में सपने में सांप नजर आता है और आप उसको देख कर खुश हो जाते हैं तो समझ लेना चाहिए कि आपके पितर आपसे खुश है।
  • अगर श्राद्ध पक्ष की अमावस्या के दिन आपके बिगड़ते हुए कार्य भी बन जाए या फिर आपको अचानक धन लाभ की प्राप्ति हो जाए तो समझ लेना चाहिए कि आपके पितर आपसे खुश है।
  • यदि आपके घर में लगातार कोई बीमार हो रहा है, इलाज करवाने के बावजूद भी उसकी सेहत में सुधार नहीं आ रहा है तो इसका मतलब होता है कि आपके पितर आप से नाराज है।

  • व्यक्ति यही चाहता है कि उसके घर में कभी किसी प्रकार का वाद विवाद ना हो परंतु इसके बावजूद भी आपके घर में ऐसा कुछ हो रहा है तो यह पितृदोष की वजह से होता है ऐसी स्थिति में आपके पितर आपसे नाराज रहते हैं।
  • बहुत बार ऐसा देखा गया है कि व्यक्ति की आय अच्छी होती है और उसका काम धंधा भी ठीक चल रहा होता है परंतु इसके बावजूद भी उसको धन से संबंधित परेशानियों का सामना करना पड़ता है ऐसी स्थिति में आपको समझ लेना चाहिए कि आप पितृदोष के शिकार हो गए हैं।
  • यदि आपको अपनी संतान पक्ष से कष्ट मिल रहे हैं तो यह पितरों के नाराज होने का संकेत होता है।

ऊपर जो हमने आपको संकेत बताएं हैं यह इस बात की ओर इशारा करते हैं कि आपके पितर आपसे प्रसन्न है या नाराज है? इसके अलावा अगर काफी प्रयास करने के बावजूद भी आपको किसी कार्य में सफलता नहीं मिल पा रही है तो अपने पितरों को याद कीजिए और कहे कि कार्य पूर्ण होने पर आप शांति पाठ करायेंगें, अगर आपका कार्य पूरा हो जाता है तो समझ लें आपके पिता आपसे प्रसन्न है और अपनी आत्मा की शांति चाहते हैं ऐसी स्थिति में आप पितरों की आत्मा की शांति के लिए श्राद्ध पक्ष में तर्पण और पिंडदान कीजिए।