बिज्ञान और तकनीक

अपने मोबाइल से जुड़े ये 4 मिथ नहीं जानते होंगे आप, कहीं आप भी तो इन गलतफहमियों का शिकार नहीं है

मोबाइल का इस्तेमाल तो आजकल लगभग हर कोई करता है और समय के साथ साथ मोबाइल फोन बेहद स्मार्ट होते जा रहे हैं। हर रोज मोबाइल से जुड़ी कई खबरें देखने को मिलती हैं मोबाइल से जुड़ी कई बातें हम अपने दोस्तों से भी सुनते रहते हैं। लेकिन आजकल स्मार्टफोन को लेकर कई प्रकार की भ्रांतियां फैली हुई है जिन को हम किसी के द्वारा बताये जाने से ही विश्वास कर लेते हैं कोई कुछ भी बोल दें हमें वहीं बात सत्य लगने लगती हैं। लेकिन बिना सच जानें किसी की बात पर यकीन करना सही नहीं हैं। आज हम आपको मोबाइल फोन से जुड़े कुछ ऐसे मिथ बताएंगे जिसकी सच्चाई आप को जरूर जान लेनी चाहिए और अपनी गलतफहमी दूर कर लेनी चाहिए। तो आइए जानते हैं फोन से जुड़े वो मिथ क्या है

अच्छी फोटो के लिए ज्यादा मेगापिक्सल्स का कैमरा होना :

लोग स्मार्टफोन लेते समय उसके कैमरे का जरूर ख्याल करते हैं हर कोई चाहता है कि उसके फोन में अच्छी क्वालिटी का कैमरा हो जिससे अच्छी फोटो कैप्चर की जा सके। जब अच्छे कैमरे की बात आती है तो लोगों का सबसे पहले मेगापिक्सल्स पर ध्यान जाता है वे सोचते हैं कि कैमरा जितना ज्यादा मेगापिक्सल्स का होगा फोटो भी उतनी ही अच्छी आएगी। लेकिन आपको बता दें कि ये सिर्फ मिथ हैं दरअसल अच्छी फोटो सिर्फ मेगापिक्सल्स पर निर्भर नहीं है इसके अलावा अच्छा कैमरा लेंस, सेंसर और फोकस का होना भी बहुत जरूरी है। बता दें कि एक मेगा पिक्सल्स में एक मिलियन पिक्सल्स होते हैं। जब आप फोटो प्रिंट करवाते हैं तब ही मेगापिक्सल्स मायने रखता है अन्यथा नहीं।

रात-भर फोन चार्ज नहीं लगाना चाहिए :

बहुत से लोग इस डर के कारण रात को फोन चार्ज लगाकर नहीं छोड़ते कि कहीं उनके फोन की बैटरी खराब ना हो जाए या फिर बैटरी फट ना जाएं। यह भी एक बहुत बड़ा मिथ हैं जिससे बहुत से लोग अपने फोन को ज्यादा देर तक चार्ज लगाने से डरते हैं। बता दें कि रात-भर फोन चार्ज लगाकर रखने से आपके फोन पर कोई बुरा असर नहीं पड़ता। दरअसल आजकल के स्मार्टफोन को हम जितना स्मार्ट समझते हैं वे उससे भी ज्यादा स्मार्ट हो चुके हैं जब आपकी बैटरी फुल चार्ज हो जाती है तो फोन अपने आप चार्ज होना बंद हो जाता है।

दूसरी कंपनी के चार्जर से फोन चार्ज करना :

बहुत से लोगों को यह भी डाउट हैं कि अपने फोन को किसी दूसरे फोन या फिर दूसरी कंपनी के चार्जर से चार्ज करने पर फोन में खराबी आती है लेकिन हकीकत में ऐसा कुछ नहीं है। आप बिना किसी डर के दूसरे चार्जर से अपना फोन चार्ज कर सकते हैं। आपने लोगों से सुना होगा कि फोन को सिर्फ उसी चार्जर से चार्ज करना चाहिए जो उसके साथ आता है लेकिन ये गलत बात है। हालांकि दूसरा चार्जर नकली या खराब क्वालिटी का नहीं होना चाहिए अगर ओरिजनल हैं तो आप बिना किसी डर के उसका प्रयोग कर सकते हैं।

डाटा और वाई-फाई जैसी कनेक्टिविटी ऑफ करना :

काफी लोगों ने अपने मन में यह भ्रांति पैदा कर ली है कि डाटा, वाई-फाई, ब्लूटूथ और जीपीएस को बंद करने से फोन की बैटरी कम खर्च होती हैं आप भी कई बार बैटरी बचाने के लिए इनको ऑफ करते होंगे लेकिन आपको बता दें कि ये फोन की बेसिक सिस्टम सर्विसेस है जिनको ऑन रखने से मोबाइल स्मूदली काम करता है।

Related Articles

Close