आर्मी ने लिया मंदीप की शहादत का बदला, 4 पाकिस्तानी चौकियों को तबाह कर मार गिराए 40 पाकिस्तानी

नई दिल्ली – भारत ने 13 साल में पहली बार पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए एलओसी पर तोपों को इस्तेमाल किया। इससे पहले साल 2003 में संघर्ष विराम समझौता होने के बाद पहली बार एलओसी पर तोपों से हमला किया गया है। एक्सक्लूसिव जानकारी यह है कि भारत ने ये कार्रवाई शहीद मनदीप के शव के साथ हुई बर्बरता का बदला लेने के लिए की थी। Army devastated Pakistani posts.

दरअसल दिवाली से पहली रात 29 अक्टूबर को सेना ने एलओसी पर तोपों का इस्तेमाल कर चार पाकिस्तानी चौकियां तबाह कर दी थीं। इस कार्रवाई में 40 पाकिस्तानी सैनिक भी मारे गए थे।

नापाक पाक और आतंकवादियों को करारा जवाब –

पाकिस्तान सर्जिकल स्ट्राइक के बाद चाहे जितना भी शोर मचा हो, लेकिन आतंकवादी गतिविधियों को समर्थन दे रहे पाकिस्तान को सबक सिखाने में भारत ने कोई कसर नहीं छोड़ा है।  पिछले दिनों भारत ने बिना नियंत्रण रेखा पार किए पाकिस्तान की चार चौकियों को गोलाबारी कर तबाह कर दिया है। इसमें तीन दर्जन से ज्यादा पाकिस्तानी फौजी भी मारे जाने की सूचना है। इसी तरह भारतीय बलों ने पाकिस्तान की ओर से आतंकवादियों को घुसपैठ करवाने की 18 कोशिशों को भी नाकाम कर दिया है।

शहीद मंदीप का बदला, तोप से उड़ा दी PAK की 4 चौकियां –

गौरतलब है कि 28 अक्टूबर को कुपवाड़ा के केरन सेक्टर में भारतीय जवान मनदीप सिंह शहीद हो गए थे। गोली लगने के बाद मनदीप एक नाले में गिर गया था, वहीं पर पाकिस्तानी आतंकी उसका सिर काट ले गए थे। तीन घंटे चली इस मुठभेड़ में एक आतंकी को भी मारा गया था। इसके बाद भारतीय सेना ने पाकिस्तानी चौकियों को उड़ाया, जिसकी वीडियो रिकार्डिंग भी पाकिस्तानी चौकियों में तबाही की कहानी बयान कर रही है।

 

13 साल में पहली बार नियंत्रण रेखा पर तोपों का इस्तेमाल

सरकारी सूत्रों से इस बात की पुष्टि की है कि पाकिस्तान पर हमले के लिए सेना ने तोपों का इस्तेमाल किया। इससे पहले यह बात हमेशा संदेह के घेरे में ही रहती थी। दोनों देशों के बीच 2003 में संघर्षविराम समझौते पर दस्तखत के बाद से नियंत्रण रेखा पर तोपों के इस्तेमाल का यह पहला मामला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.