रोज़ रहस्यमयी तरीक़े से ग़ायब हो रहे थे मोज़े, जब सच्चाई सामने आयी तो हिल गया महिला का दिमाग़

आज के समय में हर व्यक्ति कोई भी काम बहुत आसानी से करना चाहता है। इसी चक्कर में आए दिन नई-नई खोजें भी हो रही हैं। आए दिन वैज्ञानिक कुछ ना कुछ नया इजाद कर रहे हैं। पहले के ज़माने में इंसान अपने सारे काम ख़ुद ही करता था, लेकिन धीरे-धीरे तकनीकी का विकास हुआ और इंसान अपने काम तकनीकी की मदद से करने लगा। उदाहरण के लिए पहले लोग खाना मिट्टी के चूल्हे पर लकड़ी से बनाते थे। मिट्टी के चूल्हे पर बने खाने का स्वाद ही अलग होता था। लेकिन धीरे-धीरे लोगों ने खाना बनाने के लिए गैस का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया।

अब तो लोग गैस की बजाय इलेक्ट्रिसिटी का इस्तेमाल करते हैं। अब बाज़ार में खाना बनाने के लिए इंडक्शन चूल्हे आ गए हैं। कई बार तकनीकी की वजह से लोगों को कई नुक़सान भी उठाने पड़ते हैं। तकनीकी ने लोगों को जितना आराम दिया है, उतना ही उनके जीवन को ख़तरे में भी डाला है। पहले लोग कहीं भी यात्रा पैदल करते थे, जबकि आज दो क़दम चलने के लिए भी लोग गाड़ी का इस्तेमाल करते हैं। गाड़ी के इस्तेमाल की वजह से प्रदूषण बहुत ज़्यादा बढ़ गया है और आए दिन सड़क हादसे में सैकड़ों लोग अपनी जान भी गँवाते हैं।

आज लोग कपड़े धोने से लेकर अपनी मूलभूत ज़रूरतों को पूरा करने के लिए मशीनों का इस्तेमाल करने लगे हैं। इसकी वजह से उनका काफ़ी समय तो बचता ही है, साथ ही कई बार उन्हें परेशानी का भी सामना करना पड़ता है। आज हम आपको तकनीकी के इस्तेमाल की वजह से होने वाले एक ऐसे नुक़सान के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसके बारे में जानकर आप भी हैरानी में पड़ जाएँगे। आप इस घटना के बारे में पहले तो कन्फ़्यूज़ हो जाएँगे बाद में आपको इस घटना की असलियत के बारे में पता चलेगा।

रहस्यमयी तरीक़े से वॉशिंगमशीन से हो रहे थे मोज़े ग़ायब:

दरअसल हम आपको जिस मामले के बारे में बताने जा रहे हैं, अमेरिका का है। हुआ ये कि अमेरिका के कोलोराडो की रहने वाली एक महिला जिसका नाम सारा रोज़ था हर रोज़ अपने कपड़े धोने के लिए वॉशिंग मशीन में डालती थी। जब वह कपड़े निकालती थी तो हर बार उसके मोज़े ग़ायब हो जाते थे। यह सिलसिला कई दिनों तक चलता रहा। यह देखकर सारा बहुत ज़्यादा हैरान हो गयी। उसे समझ में नहीं आ रहा था कि मोज़े कोई निकाल ले रहा है या मोजों के साथ कुछ और हो रहा है। इस राज पर से पर्दा उठाने के बारे में सारा सोच ही रही थी कि कुछ ऐसा हुआ कि सच्चाई ख़ुद-ब-ख़ुद सामने आ गयी।

ड्रायर के नीचे फँसे हुए थे मोज़े:

सारा का वॉशिंग मशीन धीरे-धीरे काम करना बंद करने लगा। मशीन ठीक से काम नहीं कर रही थी। इसके बाद सारा के पति ने मशीन की सफ़ाई करने का फ़ैसला किया। सारा के पति ने जैसे ही वॉशिंग मशीन खोली, अंदर का नज़ारा देखकर वह हैरान हो गया। उसने देखा कि हर रोज़ ग़ायब होने वाले मोज़े कहीं और नहीं बल्कि मशीन के अंदर ही हैं। ये मोज़े किसी तरह से ड्रायर के नीचे वाली जगह पर जमा हो रहे थे। सारा ने ये पूरा मामला अपने ट्वीटर अकाउंट पर पोस्ट किया। सारा के इस वकए को लोगों ने खूब लाइक और शेयर भी किया है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.