चीन और पाकिस्तान को लगने वाला है झटका – साल के अंत मसूद अजहर घोषित हो जाएगा अंतरराष्ट्रीय आतंकी!

नई दिल्लीः भारत को उम्मीद है कि इस साल के अंत तक जैश-ए-मोहम्मद का प्रमुख मसूद अजहर अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित कर दिया जाएगा। अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से भारत लंबे समय से पाकिस्तान समर्थित आतंकी मौलाना मसूद अजहर के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग कर रहा हैं। मसूद अजहर पर भारत में कई आतंकी कार्रवाईयों को अंजाम देने का आरोप है। मगर इसके बाद भी इस आतंकी को प्रतिबंधित घोषित नहीं किया जा सका है। भारत प्रयास कर रहा था कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर इसे आतंकी घोषित किया जाए। भारत कि ओर से सभी विकल्पों पर विचार किया जा रहा है। Resolution against Masood Azhar. 

संयुक्त राष्ट्र में भारत के प्रतिनिधि सैयद अकबरूद्दीन ने एक विशेष पत्रिका से बातचीत के दौरान कहा कि, ‘हम इस बारे में सब्र से कई सदस्य देशों के साथ काम कर रहे हैं। हमें उम्मीद है कि सदस्य देशों के सहयोग से हम इस साल के अंत तक जैश-ए-मोहम्मद का प्रमुख मसूद अजहर अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित करा पाएंगे।’

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में पठानकोट हमले के बाद भारत ने रखा था प्रस्ताव –

भारत द्वारा इस साल प्रस्ताव 1267 के तहत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद समिति के समक्ष मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित करने का प्रस्ताव रखा गया था। पठानकोट में हुए आतंकी हमले का मास्टरमाइंड मसूद अजहर था इसलिए भारत उसे अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित कराना चाहता है।

चीन ने वीटो पावर का इस्तेमाल कर लगा दिया था अड़ंगा –

पाकिस्तान से करीबी रिश्ता रखने वाले चीन ऐसा नहीं चाहता। इसलिए उसने अपने वीटो पावर का इस्तेमाल कर इसमें अड़ंगा लगा दिया था। पाकिस्तान ने भी कोई कारण बताएं बिना इस पर आगे बढऩे से इनकार कर दिया था। गौरतलब है कि इस साल दिसंबर में चीन की तरफ से लगाई गई रोक खत्म हो जाएगी। चीन को या तो सहयोगी देशों को इसमें सपोर्ट करना होगा या फिर से अपने वीटो पावर का इस्तेमाल करना होगा।

अब चीन नहीं लगा पाएगा अड़ंगा –

क्योंकि मसूज अजहर का संगठन जैश-ए-मोहम्मद पहले से ही प्रतिबंधित आतंकवादी सगंठन है इसलिए इस साल के अंत तक इस मामले में तेजी आएगी। इसलिए मसूद अजहर को भी आतंकवादी घोषित किए जाने को लेकर भारत की उम्मीदें बढ़ गई हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.