मायावती का बड़ा दांव, ‘अब बीजेपी को देंगी इस हथकंडे से मात’

आगामी चुनावों को लेकर सरगर्मियां तेज हो चुकी हैं। जी हां, तमाम पार्टियां एक इसके तैयारियों में जुट चुकी हैं। बीजेपी से लेकर बीएसपी भी इस चुनाव की तैयारी में जुटी हुई है। इसी तैयारी में बीएसपी प्रमुख मायावती ने बड़ी तैयारियां करनी शुरू कर दी है। चुनाव में बीजेपी को मात देने के लिए मायावती हर संभव कोशिश करती हुई नजर आ रही हैं। मायावती ने बीजेपी की तमाम गतिविधियों को लेकर जनता के बीच जाएंगी, जहां बीजेपी के झूठ का पर्दाफाश करने की बात कर रही है। तो चलिए जानते हैं कि हमारे इस रिपोर्ट में क्या खास है?

मायावती अब दलितों के लिए गांव में चौपाल लगाती हुई नजर आ रही है। जी हां, मायावती अब दलितों के अपनी पार्टी  के हित में करेंगी तो वहीं दूसरी तरफ यह बताएंगी कि बीजेपी को वोट क्यों न दें? मायावती का यह कदम बीजेपी के ग्राम योजना को झटका दे सकता है, क्योंकि  यूपी के गांव में आज भी मायावती की खास पकड़ नजर आती है। 2 अप्रैल के बाद से ही मायावती बीजेपी को लेकर हमलावर हो रही है। मायावती लगातार बीजेपी पर आरोप लगाती हुई नजर आती है, ऐसे में अब मायावती दलितों के सामने बीजेपी की पोल खोलेंगी।

बसपा का मानना है है कि दलितों को सही मायने में वही सम्मान दिला सकती है, ऐसे में वो दलितों के लिए  चैपाल लगाएंगी, ताकि लोगों को यह बता सकें कि आने वाले दिनों में वे दलितों के लिए अच्छा काम कर सकती है। मायावती ने बीजेपी नेताओं के दलितों के साथ खाना खाने को भी नौटंकी बता दिया था, जिसकी वजह से अब मायावती बीजेपी बड़े स्तर पर हमला करने की तैयारी में है। आपको बता दें कि बसपा के चौपालों में एक ओर जहां बीजेपी सरकार द्वारा किए गए दलित विरोधी कार्यों की जानकारी दी जाएगी, तो वहीं दूसरी तरफ मायावती के कार्यकाल के दौरान किये गये कार्यों को भी बताएंगे।

बताते चलें कि 2019 के लिए मायावती ने कमर कस ली है। मायावती अखिलेश यादव के साथ मिलकर बीजेपी को पस्त करने का सपना जरूर देख रही है, लेकिन इस बीच वो अपनी कोशिशों को भी जारी रख रही है। 2019 के लिए यूपी में महागठबंधन की तैयारियां जोरों से चल रही है, ऐसे में तमाम पार्टियां अपनी तरफ से अपने हिस्से की कोशिशें करती हुई नजर आ रही है। मायावती ने ऐलान किया है कि बीजेपी दलित विरोधी है, ऐसे में 2019 में उसका सत्ता से बाहर जाना पूरी तरह से तय है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.