मुख्य समाचार

उन्नाव गैंगरेप मामले में पीड़िता ने की सीबीआई जांच की मांग, सरकार ने कहा ‘कड़ी कार्रवाई होगी’

उन्नाव गैंगरेप के मामले पर जमकर सियासत देखने को मिल रही है। जी हां, अब इस मामले में हर नेता सियासत चमकाने में लगा हुआ है, लेकिन अभी न्याय की गुहार लगा रही पीड़िता के हाथ खाली है। एक तरफ सरकार बेटी बचाओं बेची पढ़ाओ का नारा देती है, तो वहीं दूसरी तरफ बेटी को इंसाफ दिलाने में भी कतरा रही है। इतन ही नहीं, बेटी को बचाने वाले पिता को भी सरकार नहीं बचा पाई, जिसकी वजह देशभर में आक्रोश का माहौल देखने को मिल रहा है। इन सबके बीच पीड़िता ने सीबीआई जांच की मांग की है, तो सरकार ने कहा कि मामले में पूरी कार्रवाई होगी। आइये जानते हैं कि मामले में ताजा अपडेट क्या है?

पुलिस ने इस मामले में कार्रवाई करते हुए बीजेपी विधायक के भाई को गिरफ्तार किया है, जिसके बाद पीड़ित परिवार का आक्रोश और भी ज्यादा बढ़ गया है। जी हां, पीड़िता का कहना है कि भाई नहीं, पुलिस विधायक को गिरफ्तार करें, ऐसे में विधायक ने इस बयान पर अटपटा पलटवार किया है। बता दें  कि आरोपी विधायक का कहना है कि ये लोग निम्न लोग है, जिसकी वजह से ये मुझ पर बेबुनियाद आरोप लगा रहे हैं, जोकि सरासर गलत है।

पीड़ित परिवार ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार अपने विधायक को बचाने की साजिश कर रही है, लेकिन अब विधायक पर सिर्फ रेप का आरोप नहीं बल्कि उसके पिता को मरवाने का भी आरोप है। आपको बता दें कि आरोपी विधायक को सरकार ने पहले ही क्लीन चिट दे दी है, जिसकी वजह से मामला बहुत ही ज्यादा गरमा गया है। एक तरफ सीएम योगी मामले में कड़ी कार्रवाई की बात करते हैं, तो वहीं दूसरी तरफ यूपी गृहमंत्रालय आरोपी विधायक को क्लीन चिट देती है, ये सरकार की मंशा पर सीधे सीधे सवाल खडे कर रही है।

बताते चलें कि पीड़िता ने बताया कि उसके साथ 4 जून 2017 को बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर ने गैंगरेप किया था, जिसके बाद मामले में कुछ भी बताने को लेकर बीजेपी विधायक ने परिवार को मारने की धमकी दी थी, ऐसे में अब पीड़िता इससे परेशान हो चुकी है, जिसकी वजह से उसने आत्महत्या की कोशिश की थी, लेकिन उसे बचा लिया गया, पर उसे पिता को कथित तौर पर फर्जी केस में फंसाकर उनकी थाने में मौत हो गई है, जिसके बाद अब इस मामले को लेकर सरकार और प्रशासन जाग गई है, लेकिन अभी तक बीजेपी विधायक खुलेआम घूम रहा है।

Related Articles

Close