श्रीदेवी के तिरंगे में विदाई पर भड़के राज ठाकरे, दिया ऐसा बयान कि मचा बवाल

राजनीति और ग्लैमर जगत दोनों का विवादों से रिश्ता पुराना है और जब दोनो एक साथ आते हैं तो फिर विवाद से हंगामा मचना भी तय है.. अभी कुछ ऐसा ही विवाद उपजा है दिवंगत एक्ट्रेस श्रीदेवी के अंतिम विदाई पर महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे के बयान से। असल में बॉलीवुड की मशहूर एक्ट्रेस श्रीदेवी को उनके अंतिम संस्कार के वक्त राजकीय सम्मान दिया गया था जिसे लेकर महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे ने रविवार को एक विवादित बयान दे दिया।

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे ने दिवंगत एक्ट्रेस श्रीदेवी को दिए गए राजकीय सम्मान को लेकर कहा कि चूंकि श्रीदेवी की मौत शराब पीने के कराण हुई थी और ऐसे में इसके बाद उन्हें तिरंगे में लपेटकर राजकीय सम्मान दिया गया, जो कि पूरी तरह गलत है। राज ठाकरे ने अपने बयान में कहा है कि, ‘यह काफी दुखद है, कि श्रीदेवी की आकस्मिक मौत शराब पी कर बाथ टब में गिरने से हुई।

नीरव मोदी के मुद्दे से ध्यान हटाने के लिए श्रीदेवी की मौत को हाइलाइट किया गया

रविवार को मीडिया वार्ता में इस विषय पर बात करते हुए राज ठाकरे ने कहा है कि , जब श्रीदेवी जैसी पर्सनैलिटी की मौत ऐसे होती है, आप उन्हें तिरंगे में लपेटते है और कहते हैं कि यह सम्मान उन्हें इसलिए दिया गया कियोंकि वह पद्मश्री से सम्मानित थीं। पर वास्तव में ये महाराष्ट्र गवर्नमेंट का फॉल्ट है। इतना ही नहीं राज ठाकरे ने यह भी कहा कि मीडिया ने श्रीदेवी की मौत की खबर को बढ़ा चढ़ाकर दिखाया । जिसकी ये वजह थी कि श्रीदेवी की खबर के पीछे नीरव मोदी का मैटर छिपाया जाए और इस मैटर से लोगों का ध्यान हट सके।असल में यह सब तब हुआ जब नीरव मोदी की खूब चर्चा हो रही थी.. इसी बीच जब श्रीदेवी की मौत का मुद्दा सामने आया और फिर माजरा ही बदल गया चर्चा नीरव मोदी से हटकर श्रीदेवी की मौत पर टिक गई।

सारी गलती महाराष्ट्र सरकार की है

इस बारे में राज ठाकरे ने मीडिया से बातचीत में कहा कि, “मुझे एक बात समझ में नहीं आ रही है कि बतौर एकट्रेस श्रीदेवी ने ऐसा कौनसा काम किया है जिसके लिए उन्हें राजकीय सम्मान दिया गया। हालांकि इसके लिए कहा ये गया कि श्रीदेवी पद्मश्री से सम्मानित थीं इसलिए उन्हें ये सम्मान मिला। पर भी मौत के कारण पर विचार करना चाहिए क्योंकि श्रीदेवी की मृत्यु शराब पीकर हुई। दारू के नशे में वे टब में गिर गईं। इसके बाद भी राजकीय सम्मान दिया गया.. उनकी देह को राष्ट्रध्वज में लपेटा गया और फिर अंतिम संस्कार किया गया। ऐसे में ये सारी गलती महाराष्ट्र सरकार की है।”

गौरतलब है कि श्रीदेवी की मौत फरवरी में दुबई में हुई थी। जहां श्रीदेवी अपने पारिवारिक शादी समारोह में शामिल होने गई थी। उस शादी के खत्म होने के बाद श्रीदेवी कुछ और दिन दुबई में रहना चाहती थीं। इसी दौरान दुबई के एक होटल में श्रीदेवी बाथरूम में बेहोश पाई गईं। अस्पताल ले जाने के बाद डॉक्टरों ने श्रीदेवी को मृत घोषित कर दिया था।