ब्रेकिंग न्यूज़

सीएम योगी बोले, ‘ गोली का जवाब गोली से देने का पुलिस को पूरा अधिकार है’

उत्तर प्रदेश में इन दिनों एनकाउंटर की चर्चा जोरो से हैं। जी हां, जहां एक तरफ सरकार सूबे में विकास की बात कर रही है, तो वहीं दूसरी तरफ विपक्ष सरकार की नीतियों पर लगातार आरोप लगाती दिख रही है। बता दें कि सूबे में कानून व्यवस्था को लेकर चर्चा हमेशा से रही है, लेकिन बीजेपी राज में इसकी चर्चा में उबाल देखने को मिल रहा है, क्योंकि सत्ता में आने से पहले बीजेपी ने वादा किया था कि वो सूबे की कानून व्यवस्था को एकदम टाइट रखेंगे। तो ऐसे में सीएम योगी के सामने सबसे बड़ी चुनौती यह है कि सूबे की कानून व्यवस्था को कैसे पटरी पर लाया जाए, जिसके लिए योगी ने तरकीब तो निकाली, लेकिन उस पर उन्हें चौ-तरफा आलोचनाओं का सामना करना पड़ा। आइये जानते हैं कि हमारे इस रिपोर्ट में क्या खास है?

बताते चलें कि पिछले एक साल में तकरीबन साढ़े बारह सौ एनकाउंटर हो गये, जिसको लेकर विपक्ष सरकार पर हल्ला बोलती हुई दिखाई दे रही है, ऐसे में अब सीएम योगी ने विपक्ष के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि मैंने पुलिस को अधिकार दिया है कि वो गोली का जवाब गोली से दें। जी हां, एनकाउंटर को लेकर सूबे के पूर्व सीएम अखिलेश यादव भी निशाना साधते हुए नजर आते हैं। अखिलेश ने कहा था कि बीजेपी वाले को तो शांति पसंद ही नहीं होती है, ये लोग आते ही खून खराबा पर उतर गये।

विपक्ष ने यह भी आरोप लगाया था कि सूबे में फर्जी एनकाउंटर कराया है। विपक्ष के इन्ही आरोपो पर जवाब देते हुए सीएम योगी ने कहा कि हमारे पास हर गोली का हिसाब है, अगर आप एक भी एनकाउंटर फर्जी हुआ है, ये साबित कर दें, तो बात करना। इसके साथ ही योगी ने कहा कि हम सूबे में अच्छा काम कर रहे हैं, अपराध का खात्मा होने में समय लगेगा, लेकिन पिछले साल से प्रदेश में अपराध कम हुआ है।

सीएम योगी ने जवाब देते हुए कहा कि प्रदेश में जो कानून के दायरे में रहेगा, उसे पूरी सुरक्षा दी जाएगी, लेकिन अगर कोई इसे तोड़ने की कोशिश करेगा, तो फिर कानून अपना काम करेगा ही। इस दौरान उपचुनाव में हार पर भी बोलते हुए सीएम योगी ने कहा कि जिंदगी में हर किसी को कभी न कभी ठोंकरे लगती है, क्योंकि इन्ही ठोंकरों से हम सीखते हैं, ऐसे में हमने भी इस चुनाव से बहुत कुछ सीखा, जिसके बाद हम नई रणनीति के तहत काम करेंगे औऱ लोकसभा में 80 की 80 सींटे जीतेंगे।

गौरतलब है कि गोरखपुर और फूलपुर उपचुनाव में समाजवादी पार्टी और बसपा ने बीजेपी को करारी शिकस्त दी तो सूबे का सियासी मिजाज ही बदलता हुआ नजर आया। बता दें कि इस चुनाव से जहां विपक्ष फूली हुई नहीं समा रही है, तो वहीं सत्ता पक्ष टेंशन में नजर आ रही है। बता दें कि इस चुनाव को सीधे सीधे लोकसभा से जोड़ा जा रहा है।

Related Articles

Close