मुख्य समाचार

नवजात को बेरहमी से डुबोकर मारने के बाद कलयुगी माँ ने कहा बन रहा था मेरी जिंदगी में रोड़ा इसलिए..

मां ने अपने बच्चे को मार डाला: हर महिला का सपना होता है कि वह माँ बने। ऐसा कहा जाता है कि माँ बनना हर महिला के लिए सबसे ख़ुशी का पल होता है। इसके लिए एक महिला सालों पहले से ही तयारी में लग जाती है। वह बच्चा पैसा होने के बाद उसे हर समय अपने सीने से चिपकाकर रखती है ताकि उसे कोई नुक्सान ना हो। बच्चे को कोई परेशानी ना हो इसके लिए माँ अपने खान-पान में भी काफी बदलाव करती है और अपनी पसंदीदा चीजों का त्याग कर देती है। इसी लिए कहा जाता है कि एक माँ के त्याग का बदला एक बेटा कभी नहीं चुका सकता है।

कलयुगी माँ की करतूत सुनकर काँप जाएगी आपकी रूह:

अक्सर लोगों को यह कहते हुए भी सुना होगा कि पूत कपूत हो सकता है लेकिन माता कभी कुमाता नहीं हो सकती है। लेकिन कलयुग के इस समय में कुछ भी संभव हो सकता है। हाल ही में कुछ ऐसा ही नजारा देखने को मिला है। एक कलयुगी माँ ने ऐसी घिनौनी हरकत की है, जिसके बारे में जानकर आपकी रूह काँप जाएगी। हाल ही में एक माँ ने अपने बेटे को कुएं में फेंककर मार डाला था, उसका पूरा सच आज हम आपके सामने लाये हैं।

कहानी से कर रही थी गुमराह करने की कोशिश:

दरअसल अपने ही नवजात बच्चे को कुएं में फेंककर मारने के बाद माँ एक नकाबपोश की कहानी से सबको गुमराह करने की कोशिश कर रही थी। लेकिन पूछताछ के दौरान आख़िरकार वो टूट गयी और पूरा सच सामने रख दिया। जानकारी के लिए आपको बता दें यह घटना बैकुंठपुर जिले के पटना थाना क्षेत्र के तेंदुआ ग्राम की है। मंगलवार को यहाँ के कृत पटेल के घर में लिंटर की ढलाई का काम चल रहा था। यहीं के रहने वाले कैलाश पटेल अपनी बहू काजल और केवल तीन महीने के नाती मंदीप को घर में छोड़कर बाहर से ताला लगाकर घर का काम देखने गए थे।

पीछे से आकर बाँध दिए हाथ-पाँव और ठूस दिया मुंह में कपडा:

जब वो 3 बजे के आसपास लौटकर आये और बहू को आवाज लगाने लगे तो कोई जवाब नहीं आया। वह भागकर कुएं के पास लगे पम्प को बंद करने चले गए। इतने में उन्होंने कुएं में तैर रहे मासूम का शव देख लिए। जब घर में गए तो बहू औंधे मुंह गिरी हुई थी और उसके मुंह में कपड़ा ठुंसा हुआ था। जब उन्होंने बहू के मुंह से कपडा निकाला तो वह कहानी सुनाने लगी और जोर-जोर से रोने लगी। उसने बताया कि एक नकाबपोश पीछे से आया तो उसे लगा कि उसका पति है। पीछे से आकार उसने हाथ-पाँव बंधकर मुंह में कपडा ठूस दिया।

अपनी ही कहानी में उलझ रही थी काजल:

उसके बाद वह बच्चे को लेकर गया और कुएं में फेंककर भाग गया। बहू की कहानी सुनने के बाद कैलाश ने पड़ोसियों को बुलाया और बच्चे के शव को बाहर निकाला। सूचना मिलने के बाद पुलिस घटनास्थल पर पहुँच गयी और काजल को इलाज के लिए अस्पताल भेजकर बच्चे के शव को पोस्टमोर्टम के लिए भेज दिया। रिपोर्ट में यह बात सामने आई कि बच्चे की मौत पानी में डूबने से हुई है। जब पुलिस ने बच्चे की माँ से बात की तो वह हर बार अपनी ही कहानी में उलझती जा रही थी।

आराम का जीवन पसंद था इसलिए कर दी बच्चे की हत्या:

लेकिन जब पुलिस ने कड़ाई से पूछा तो वह टूट गयी और सारा सच सामने रख दिया। काजल ने बताया कि वह बच्चे की देखभाल ठीक से नहीं कर पा रही थी, जबकि घरवालों का कहना है कि उसे आराम का जीवन पसंद था। बच्चा उसके जीवन में रोड़ा बन रहा था, इसलिए उसने बच्चे की हत्या कर दी।

Related Articles

Close