ये 5 तरह के फूड धीरे-धीरे कर देते हैं आपकी मेमोरी कमज़ोर, लिमिट में रहकर ही करना चाहिए सेवन

जिस तरह मेमोरी बढ़ाने के लिए कुछ फूड होते हैं वहीं कुछ खाने ऐसे भी होते हैं जो मेमोरी को धीरे-धीरे कम करने लगते हैं. मेमोरी का डायरेक्ट संबंध दिमाग से होता है. दिमाग अगर हेल्दी या स्थिर न हो तो इंसान को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है. दिमाग रिलैक्स न होने पर व्यक्ति को निर्णय लेने में परेशानी, काम पर ध्यान नहीं दे पाना, कंफ्यूजन होना, सोचने में दिक्कत आना, मेमोरी कम हो जाना जैसी कई प्रकार की परेशानियां हो सकती हैं. दिमाग को तेज़ करने के लिए किन-किन चीज़ो का सेवन करना चाहिए यह लगभग हर कोई जानता है.

लेकिन क्या आप जानते हैं कुछ खाद्य पदार्थ ऐसे भी होते हैं जो हमारी याद्दाश्त को धीरे-धीरे कम करने लग जाते हैं. यह खाने हेल्दी तो होते हैं लेकिन अगर ज्यादा मात्रा में इनका सेवन किया जाए तो इसका सीधा असर हमारे दिमाग पर पड़ता है. मेमोरी पर असर पड़ने से धीरे-धीरे भूलने कीई समस्या होने लगती है. इसलिए आज हम आपको 5 ऐसे फूड के बारे में बताएंगे जिनका अधिक मात्रा में सेवन आपको भूलने की बीमारी का शिकार बना सकता है.

सोया फूड

इसमें सबसे पहला नंबर आता है सोया फूड का. सोया सॉस या टोफू में सोडियम और नमक की मात्रा बहुत ज्यादा होती है. इसलिए इसका सेवन लिमिट में रहकर करना चाहिए. अधिक सेवन से आपको हाई ब्लड प्रेशर और मेमोरी लॉस की समस्या हो सकती है.

ऑरेंज जूस

बहुत लोग सुबह के टाइम ब्रेकफास्ट में ऑरेंज जूस का सेवन करते हैं. ऑरेंज जूस स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद तो होता है लेकिन उसमें शुगर की मात्रा बहुत ज्यादा होती है. अधिक मात्रा में ऑरेंज जूस का सेवन करने से रीजनिंग और आर्गेनाइज होने की क्षमता चली जाती है. इसलिए इसका सेवन लिमिट में रहकर ही करें.

सफेद चावल

सफेद चावल में कार्ब्स भरपूर मात्रा में पाया जाता है. इसमें ब्रेन की क्षमता को कम करने की शक्ति होती है और साथ ही यह डिप्रेशन का भी शिकार बना सकता है. इसलिए व्यक्ति को खाने में सफेद चावल का इस्तेमाल कम ही करना चाहिए.

शराब

ज्यादा शराब पीना व्यक्ति की मेमोरी पर बुरा असर डालता है. यह ब्रेन सेल्स को भी डैमेज कर सकता है जिससे मेमोरी लॉस की समस्या हो सकती है.

ट्यूना फिश 

ट्यूना फिश ज्यादा खाने से भी व्यक्ति को भूलने की समस्या हो सकती है. वैसे तो इसमें हाई प्रोटीन होता है जो शरीर के लिए अच्छा होता है लेकिन इसमें हाई लेवल मर्क्युरी भी पाया जाता है जो दिमाग पर बुरा असर डालता है. इसलिए ट्यूना फिश को भी लिमिट में खाना चाहिए.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.