अमेरिका ने दिया भारत का साथ, अमेरिकि NSA और अजीत डोभाल मैं हुई खास बातें

दिल्लीः अमेरिका की सुरक्षा सलाहकार सुसन राइस ने अपने भारतीय समकक्ष अजित डोभाल को फोन किया और उरी आतंकी हमले की निंदा करते हुए कहा कि व्हाइट हाउस पाकिस्तान, से संयुक्त राष्ट्र द्वारा आतंकी घोषित किए गए समूहों से निपटने तथा उनका सफाया करने के लिए प्रभावी कार्रवाई करने की अपेक्षा रखता है। Susan Rice, US NSA, Ajit Doval.

आतंकवाद पर कार्रवाई कि जताई उम्मीद –

राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के प्रवक्ता नेड प्राइस ने कहा, राजदूत राइस ने बार-बार हमारी यह अपेक्षा दोहराई है कि पाकिस्तान लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मुहम्मद सहित, संयुक्त राष्ट्र द्वारा आतंकी घोषित किए गए समूहों, व्यक्तियों और उनसे संबद्ध गुटों से निपटने तथा उनका सफाया करने के लिए प्रभावी कार्रवाई करे।

सुसन ने उरी हमले के बाद डोभाल के साथ फोन पर हुई पहली बातचीत में, 18 सितंबर को भारतीय सेना के मुख्यालय पर सीमा पार से हुये हमले की कड़े शब्दों में निंदा की। उन्होंने हमले में शहीद हुए जवानों तथा उनके परिजनों के प्रति संवेदना भी व्यक्त की।

प्राइस ने कहा, उन्होंने दुनिया भर में आतंकवाद के षडयंत्रकारियों को न्याय के कटघरे में लाने के लिए हमारे प्रयास दोगुने करने की राष्ट्रपति बराक ओबामा की प्रतिबद्धता की पुन: पुष्टि की।

उन्होंने कहा राजदूत राइस ने क्षेत्रीय शांति एवं स्थिरता को आगे बढ़ाने के लिए भारत के साथ हमारी साक्षा प्रतिबद्धता पर चर्चा की और संयुक्त राष्ट्र द्वारा आतंकी घोषित किए जाने सहित आतंकवाद की रोकथाम संबंधी मुददों पर सहयोग गहरा करने का संकल्प जताया।

उरी हमलें की निंदा –

 18 सितंबर को जम्मू-कश्मीर के उरी में भारतीय सेना के ब्रिगेड हेडक्वार्टर पर हुए आतंकवादी हमले के बाद अजीत डोभाल से फोन पर हुई पहली बातचीत में सुसन राइस ने शहीद जवानों के परिजनों के प्रति संवेदना जताई.

बातचीत के बारे में नेड प्राइस का कहना है, ” सुसन राइस ने राष्ट्रपति बराक ओबामा की दुनियाभर में आतंकवाद की साजिश रचने वालों को न्याय के कठघरे में खड़ा करने की प्रतिबद्धता को दोहराया.”

साथ ही नेड प्राइस ने कहा, “अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने क्षेत्रीय स्थिरता और शांति बनाए रखने के प्रति भारत के साथ साझा प्रतिबद्धता पर भी बातचीत की. इस दौरान आतंकवाद के खिलाफ सहयोग को और मजबूत करने पर जोर दिया गया.”