Uri_Attack के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पाकिस्तान को करारा जवाब।

केरल कोझिकोड की भूमि से।

123456

उरी अटैक के बाद जहाँ पूरा देश नरेंद्र मोदी की प्रतिक्रिया जानना चाहता था और विरोधी इस चुप्पी पर आलोचना करने से भी नहीं चूके थे।
आज केरल के कोझिकोड (Kozhikode) में जनसभा को संबोधित करते हुए ना सिर्फ नरेंद्र मोदी ने विरोधियों को जवाब दिया बल्कि पाकिस्तान को कड़ा सन्देश देते हुए बता दिया कि अब भारत आतंकवाद की किसी भी रूप में बर्दास्त नहीं करने वाला है। और अगर पाकिस्तान आज भी युद्ध चाहता है तब तो इस चुनौती को भी वह देल्ही से स्वीकार करते हैं। प्रधानमंत्री ने ना केवल कश्मीर बल्कि सिंध, पीओके, गिलगिट और बलूचिस्तान पर पाकिस्तान की नीतियों को उधेड़ कर रख दिया।
अपने भाषण में उन्होंने भारतीय जनता के साथ सेना के मनोबल की प्रसंशा की और साथ ही पाकिस्तान की जनता को संबोधित किया।
पाकिस्तान की जनता को युद्ध के लिए भी ललकारा लेकिन युद्ध जो गरीबी के और भुखमरी खिलाफ लड़ा जाये। नरेंद्र मोदी ने आज फिर यह सिद्ध कर दिया कि विरोधियों को साधने में मोदी कितने निपुण हैं।
निसंदेह आज के भाषण के बाद पाकिस्तान की मीडिया में उथल पुथल मचना तय है।
जनसभा में भारी संख्या में नरेंद्र मोदी को सुनने के लिए भीड़ जुटी थी। क्योंकि केरल में हिन्दी भाषा का चलन कम है इसलिये सुविधा के लिए ट्रांसलेटर की व्यवस्था थी जो हिन्दी भाषण को मलयालम में ट्रांसलेट कर सामानांतर ही बताया जा रहा था।
भाषण के दौरान मंच पर श्री राजनाथ सिंह, अमित शाह और श्री लालकृष्ण आडवाणी बीजेपी के मुख्य चेहरों में से उपस्थित थे।इस भाषण में नरेंद्र मोदी ने केरल के बीजेपी कार्यकर्ताओं के योगदान का वंदन भी किया।

Anant

Independent writer/Author – The World of The Yugandharas (युगांधर भूमि ) Anant Singh worked as an Engineer for nine years before turning his hand to Fiction, born and brought up in Rajasthan (India). His pen only moved to write poems, engrave short and sweet stories. It stopped as swiftly as it started, giving this world beautiful words. There was always something that was eagerly waiting to be encrypted. But the domain of events did not agree to give generous time. Time was actually derisory or was there enough…. He had been held back by his own brain for many years but he finally committed to finishing a novel.