अमीर बनने वाला जादुई लोटा जिसकी कीमत 53 लाख और कारनामे हैं होश उड़ाने वाले

क्या आपने कभी अमीर बनाने वाले जादुई पात्र के बारे में सुना है जिसे राइस पुलर बाउल्स के नाम से जाना जाता है और मानते हैं कि इसमें ऐसी जादुई शक्ति होती है, जो चुटकियों में अरबपति बना सकती है। अगर नही तो जान लीजिए क्योंकि कहीं आपको भी इसके चक्कर लेने के देने ना पड़ जाए। जी हां, हैदराबाद में ठगों ने पांच भोले-भाले लोगों को तांबे के दो लोटे थमा कर 53 लाख रुपये ले लिए। हालांकि पुलिस ने जब इस मामले में कार्यवाही की तो ठग पकड़े गए।

आपके बता दें कि इस राईस पुलर बाउल को लेकर कई तरह कहानियां और अफवाहें गढ़ी जाती हैं.. कहा जाता है कि जब कभी तांबे और इरीडियम के बर्तन पर बिजली गिरती है, तो उसमें कुछ चमत्कारी शक्ति आ जाती है और ऐसे में वो पात्र चावल के दानों को अपनी तरफ खींचने लगता है। साथ इसके बारे में ये भी मान्यता है कि ऐसा पात्र रखने वाला इंसान जल्द ही अरबपति बन जाता है। हांलांकि विज्ञान में ऐसे किसी भी चमत्कारी पात्र का कोई अस्तित्व नही है लेकिन सालों से सुनी-सुनाई जा रही कहानियों के माध्यम से लोगों के ज़ेहन में राइस पुलर बाउल का वजूद बन गया है। ऐसे में ठगों ने भी इसी मान्यता को अपने गोरखधंधे का हथियार बना लिया है।

ताजा ठगी का मामला आंध्रप्रदेश का है जहां रियल एस्टेट कारोबारी वेमा अंजनेलू और वारंगल में एनआईटी से कैमिकल इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल करने वाले एस. बाबू राव ने कुछ लोगों को अपने इस झासें में लिया कि उनके पास राइस पुलर बाउल है… जो कि जादु से अपनी तरफ चावल के दानों को खींचता है। जल्दी ही कैमिकल इंजीनियर एस. बाबू राव को अपना शिकार मिल गया.. जी.विष्णुमूर्ति नाम का कार ड्राइवर। विष्णुमूर्ति को उसने बताया कि वो डीआरडीओ में साइंटिस्ट है और उसके संपर्क में एक ऐसा शख्स है, जिसके पास राइस पुलर बाउल है। ऐसा कहकर बाबू राव ने जब विष्णुमूर्ति को अपने साथी वेमा अंजनेलू से मिलवाया.. तो उसी समय उसके दो और साथी मोहम्मद फजलुद्दीन और बबलू नाम नकली ग्राहक बनकर विष्णुमूर्ति को अहसास कराने के लिए सामने आए कि वो भी राइस पुलर बाउल खरीदना चाहते हैं और बताया कि इस राइस पुलर की  अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कीमत करोड़ों हैं ऐसे में अमीर बनने के लालच में विष्णुमूर्ति इनके झांसे में फंस गया।

ठगों ने ये सौदा 20 लाख में पक्का किया जिसके लिए गरीब कार ड्राइवर विष्णुमूर्ति ने 4 और लोगों के साथ मिलकर 20 लाख रुपये का इंतजाम भी कर लिया। इक्ठ्ठा किए गए पैसों से उसने एक राईस पुलर बाउल खरीदा पर बाद में उसे पता चला कि वो एक सिर्फ सामान्य तांबे का लोटा है.. उधर ठग उसका पैसा लेकर रफूचक्कर हो गए .. ऐसी ही वाक्या हैदराबाद के कोमपल्ली इलाके में रहने वाले टी. रमेश के साथ भी हुआ.. ठगों ने उसे 33 लाख में राइस पुलर बाउल यानि तांबे का दूसरा सामान्य सा लोटा बेच दिया। इसके बाद ये लुटे-पिटे पीड़ित पुलिस के पास पहुंचे और अपनी आप बीती सुनाई।

इस पर पुलिस एक्शन में आई और हैदराबाद पुलिस की नॉर्थ जोन टास्क फोर्स ने आखिरकार ठगों को धर दबोचा। ठगों के पास से 34 लाख 19 हजार रुपये बरामद हुए हैं.. साथ ही एक इनोवा कार, तीन और फर्जी राइस पुलर बाउल और 8 मोबाइल फोन मिले हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.